क्या बदलते मौसम की वजह से हुआ है वायरल फीवर – Viral Fever Symptoms in Hindi

सामान्यतः बदलते मौसम और खास तौर से बारिश के मौसम में viral fever के मरीजों की संख्या ज्यादा सक्रिय होती है,
परन्तु यदि आपको प्रायः बुखार जैसी समस्या का सामना करना पड़ रहा है तो यह आपके रोग प्रतिरोधक क्षमता के कमज़ोर होने के कारण भी हो सकता है या बार बार बुखार होना किसी बड़ी बीमारी का संकेत हो सकता है, जिसे दूर करने के लिए आपको डॉक्टर की राय अवश्य लेनी चाहिए। Viral fever जिसे प्रमुख बुखारों में जाना जाता है उसके बारे में इस लेख में विस्तार से बताया गया है।

How to Know Viral Fever Symptoms in Hindi

viral fever symptoms in hindi

परिचय

हम सभी को अपने जीवनकाल में कभी न कभी बुखार का सामना करना पड़ा होगा। क्योंकि यह एक सामान्य लक्षण वाली बीमारियों में से एक होता है।
बुखार होना हमारे लिए यह संकेत है कि हमारे शरीर में कुछ असामान्य गतिविधि हो रही है, जिसे ठीक करने की आवश्यकता है। लेकिन यदि मौसम के तापमान में अचानक परिवर्तन होता है तो इसके कारण होने वाला बुखार viral fever कहलाता है।

वायरल फीवर क्यों होता है?

प्रायः शरीर का तापमान 36.4 C – 37.4 C (97.5 F से 98.9 F) होता है। सामान्य स्थिति के बजाय 38° C (100.4 F) या इससे अधिक होने को बुखार कहा जाता है।
बुखार होने की कई वजहें हो सकती हैं लेकिन आमतौर वायरल वायरल फीवर वातावरण में तापमान के अत्यधिक बदलाव होने के कारण होने वाला बुखार है।

बारिश का मौसम आते ही वातावरण गर्म से ठंडा हो जाता है और भी कई बदलाव होने लगते हैं, तथा नमी के कारण पैदा होने वाले जीवाणु सक्रिय होते हैं जो हवा तथा पानी की सहायता से हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं जिससे हमें वायरल फीवर की समस्या हो सकती है।

वायरल फीवर के लक्षण (viral fever symptoms in hindi):

वायरल फीवर होने पर आमतौर से कुछ सामान्य लक्षण ही देखने को मिलते हैं और शरीर का तापमान 38 C (100.4 F) या इससे ज्यादा हो सकता है। वायरल फीवर में प्रायः दिखाई देने वाले लक्षण कुछ इस प्रकार हैं:

  • बदन दर्द होना
  • सुस्ती महसूस होना
  • ठंड लगना
  • गहरे पीले रंग का पेशाब आना
  • पेशाब का कम आना
  • कमज़ोरी लगना
  • त्वचा का गर्म होना
  • भूख न लगना
  • सिरदर्द होना
  • मिचली या उल्टी आना

जैसे प्रमुख लक्षण होते हैं जो किसी भी सामान्य बुखार जैसे ही दिखाई देते हैं।

वायरल फीवर के घरेलू उपाय (Home Remedies to cure Viral Fever): 

किसी भी बीमारी या बुखार से बचाने के लिए हमारी रोगप्रतिरोधक क्षमता(Immune system) निरंतर कार्य करती रहती है, अर्थात बीमार होने से बचने के लिए जरूरी है की हम अपने Immune system को मज़बूत करें।

जिसके लिए कुछ आसान और घरेलू उपाय दिए गए हैं जो Viral Fever से बचने तथा Immunity strong करने में सहायक हैं।

#1. हल्दी और सोंठ का पाउडर

हल्दी और सोंठ दोनों एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होते हैं इसलिए इनका काढ़ा या चाय के रूप में सेवन करना फायदेमंद साबित होता है।

बनने की विधि:
इसे बनाने के लिए 3कप पानी में
1 छोटी चम्मच सोंठ पाउडर
1/2 चम्मच काली मिर्च पाउडर
1 छोटी चम्मच हल्दी पाउडर डालकर उबाल लें जब पानी आधा रह जाए तो इसे छान कर कुछ देर ठंडा होने के बाद सेवन करें।

#2. गुडुची का काढ़ा

इसे हिंदी में गिलोय भी कहते हैं, यह इम्यूनिटी को बूस्ट करता है और सर्दी, जुकाम और बुखार से बचाने में सहायता है,

बनने की विधि:
इसे बनाना बेहद ही सरल है, 1 फीट गिलोय के तने को 4 कप पानी में डालकर तब तक उबालें जबतक की उसका पानी 1 कप न हो जाए। अब इसे कप में छान कर चाय की तरह इसका सेवन करें, आप चाहे तो इसमें 1 चम्मच शहद भी मिला सकते हैं।

#3. नींबू और शहद

नींबू और शहद दोनों में इम्यूनिटी बढ़ाने वाले गुण पाए जाते हैं, इसलिए वायरल फीवर होने पर इसने मिश्रण का भी प्रयोग किया जा सकता है।

बनने की विधि:
1 गिलास में हल्का गुनगुना पानी लें अब इसमें 1 नींबू का रस और 1 चम्मच शहद मिला कर पी सकते हैं।

#4. आराम करें

बुखार होने पर शरीर का तापमान बढ़ा हुआ होता है इसलिए हमें इस समय ज्यादा शारीरिक गतिविधि नहीं करनी चाहिए अन्यथा शरीर के तापमान में वृद्धि होगी, इस समय ज्यादातर आराम करना चाहिए।

You May Also Like – आँखों की रौशनी In 5 Best Simple Steps

Conclusion

वायरल फीवर प्रमुख बुखारों में से एक है इसकी चपेट में कमज़ोर इम्यूनिटी वाले लोग जल्दी आ जाते हैं, अतः हमें इम्यूनिटी को मजबूत करने पर ध्यान देना चाहिए जिससे हम बीमारियों से खुद को बचा सकें। अगर आपको वायरल फीवर की समस्या होती है तो ऊपर दिए गये उपाय कर सकते हैं लेकिन डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

FAQ

वायरल फीवर के लक्षण क्या हैं?

वायरल फीवर होने पर आमतौर से कुछ सामान्य लक्षण ही देखने को मिलते हैं और शरीर का तापमान 38 C (100.4 F) या इससे ज्यादा हो सकता है। वायरल फीवर में प्रायः दिखाई देने वाले लक्षण कुछ इस प्रकार हैं:

  • बदन दर्द होना
  • सुस्ती महसूस होना
  • ठंड लगना
  • गहरे पीले रंग का पेशाब आना
  • पेशाब का कम आना
  • कमज़ोरी लगना
  • त्वचा का गर्म होना
  • भूख न लगना
  • सिरदर्द होना
  • मिचली या उल्टी आना

जैसे प्रमुख लक्षण होते हैं जो किसी भी सामान्य बुखार जैसे ही दिखाई देते हैं।

वायरल फीवर क्यों होता है?

मौसम में अधिक बदलाव के कारण वायरल इन्फेक्शन के सम्पर्क में आने से शरीर का तापमान 100.4 F या इससे अधिक बढ़ जाता है इसे ही वायरल फीवर कहा जाता है।

क्या वायरल फीवर में व्यायाम किया जा सकता है?

वायरल फीवर में शरीर का तापमान सामान्य से बढ़ा होता है, एवं शारीरिक व्यायाम करने से यह और अधिक बढ़ सकता है। अतः बुखार होने पर आराम लेना चाहिए इसकी सलाह डॉक्टर भी देते हैं।

Leave a comment